Sponsored Links






Dard Bhari Shayari Ghazal in Hindi ( Sad Hindi Poem)

Dard Bhari Shayari Ghazal


मेरी याद रात भर तुम्हें सोने नहीं देगी,
रोना चाहोगी पर कसम तुम्हें रोने नहीं देगी।

आजमाएगी मोहब्बत तुम्हारा लेगी इम्तेहान,
मेरी चाहत उम्र भर गैर का होने नहीं देगी।

मेरे ख्वाबों के सहारे कटेगी रैन तुम्हारी,
निशा किसी और के सपने संजोने नहीं देगी।

मेरे साथ की खुशियाँ तुम्हें बहलाया करेगी,
वो खुशियाँ तुम्हें आंचल कभी भिगोने नहीं देगी।

ज़िन्दगी तो बेवफ़ा है मौत है सहेली हमारी,
कम से कम मौत तो दिलों के खिलौने नहीं देगी।

आज मिट जाएगा भले ही 'जीततुम्हारी चाह में,
प्यार की यादें तुम्हें गम में डुबोने नहीं देगी।

Sponsored Links


Post a Comment Blogger

 
Top