Sponsored Links






Father Essay in Hindi: Father's Day Special Essay, Paragraph in Hindi

Father Essay in Hindi
Image Source: Father's Day Wishes

पिता
माँ घर का गौरव तो पिता से घर का अस्तित्व होता है,
माँ  के पास अश्रुधारा तो पिता के पास संयम होता है,
दोनों समय का भोजन माँ बनाती है तो जीवन भर... 
भोजन की व्यवस्था करने वाले पिता को सहज ही भूल जाते हैं,
कभी ठोकर या चोट लगने पर ओ माँ ही मुंह से निकलता है,
लेकिन रास्ता पार करते समय कोई ट्रक पास आकर ब्रेक लगाए तो
बाप रे..! यही मुंह से निकलता है.
क्योंकि छोटे संकटो के लिए माँ है पर,
बड़े संकट आने पर पिता ही याद आते हैं.
पिता एक वट वृक्ष हैं
जिसकी शीतल छाँव में सम्पूर्ण परिवार सुख से रहता है!


Sponsored Links


Post a Comment Blogger

 
Top