Sponsored Links






Short Hindi Poem for Grandfather | दादा के लिए कविता

Hindi Poem for Grandfather

दादा जी की सीख

अकल खाती है ग़म,
दादा जी कभी सिखाते थे,
पर उस समय बात उनकी,
हम समझ नहीं पाते थे,
आज जब ज़िन्दगी के हम,
उतार चढ़ाव देखते हैं,
हर मोड़ पर संयम रखने की,
कोशिश में लगे रहते हैं,
तब दादा जी याद,
हमे बहुत आते हैं,

दादा जी के अनुसार जिसकी
जेब में पैसा है, मुंह में जुबान,
पहुँच सकता है किसी भी,
मंज़िल पर वह इंसान!

Sponsored Links


Post a Comment Blogger

 
Top